प्राथमिक शिक्षक संघ ने अपनी 21 सूत्रीय मांग पूरा न होने पर महा आंदोलन के लिए तैयार -ऋषिकेश जायसवाल
कमलाकर मिश्र की रिपोर्ट
उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर ब्लॉक इकाई देवरिया सदर का ब्लॉक स्तरीय धरना शिक्षक भवन बी आर सी पर संपन्न हुआ। बीआर सी पर 11:00 बजे से ही धरने में शिक्षक ,अनुदेशक, शिक्षामित्र, रसोईया सैकड़ों की संख्या में प्रतिभाग कर अपनी 21 सूत्रीय मांगों की और आर पार के संघर्ष हेतु महा आंदोलन का शंखनाद किया।प्रदेश अध्यक्ष के आह्वान पर विद्यालय परिवार में शिक्षक शिक्षामित्र, अनुदेशक रसोईया, आंगनवाड़ी कार्यकत्री, आंगनबाडी सहायिका, कस्तूरबा शिक्षक, संविदा शिक्षकों की मांगों को समन्वित कर 21 सूत्री मांगों के रूप में सरकार के समक्ष प्रस्तुत कर महाआंदोलन का निर्णय लिया गया है।और आर पार के संघर्ष का आह्वान किया गया है ।धरने का संचालन जिला संयुक्त मंत्री व सदर मंत्री ऋषिकेश जायसवाल ने किया।ब्लॉक अध्यक्ष नित्यानंद यादव ने सदर खंड शिक्षा अधिकारी विजयपाल नारायण त्रिपाठी को ज्ञापन सौंपा। ब्लॉक अध्यक्ष नित्यानंद यादव ने कहा कि सरकार हमारी 21 सूत्रीय मांगों को उदासीनता से ना लें। यह भूल शासन के लिए घातक हो सकती है। अब शिक्षक कर्मचारी अपने हक को पाने के लिए आर-पार के संघर्ष हेतु जाग चुका है। मांगे न माने जाने पर अगले चरण का आंदोलन किया जाएगा। ब्लॉक मंत्री व जिला संयुक्त मंत्री ऋषिकेश जायसवाल ने कहा कि प्रथम चरण में ट्विटर अभियान, दूसरे चरण में बी आर सी पर धरना में आज का आंदोलन अपनी मुख्य मांग यथा पुरानी पेंशन बहाली, कैशलेस चिकित्सा सुविधा, ए सी पी, उपार्जित अवकाश, द्वितीय शनिवार अवकाश, पदोन्नति, हर विद्यालय में प्रधानाध्यापक, प्रत्येक कक्षा में अध्यापक, लिपिक, चतुर्थ श्रेणी नियुक्ति ,17140 अथवा 18150 की विसंगति दूर करने, प्रोन्नत वेतनमान, ऑनलाइन कार्य पर शोषण, सभी रसोइयों का मानदेय 10000 करने, आंगनबाड़ी कार्यकत्री सहायिका का मानदेय 15000 व 10000 करने, महंगाई भत्ते का एरियर, सामूहिक बीमा 1000000 करने, मृतक आश्रित को टीईटी से मुक्ति देकर शिक्षक पद पर नियुक्ति, योग्यता अनुसार नियुक्ति, आश्रित को मुआवजा एक करोड़ करने, शिक्षामित्र ,अनुदेशक विशेष शिक्षक कस्तूरबा शिक्षक की स्थाई करने सहित 21मांगे शामिल रही। धरने का विज्ञापन प्राप्त करते हुए मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन को प्रेषित करने हेतु आश्वासन किया। धरने को बैजनाथपति त्रिपाठी, संदीप कुमार द्विवेदी, राम सिंगार यादव, राघवेंद्र कुशवाहा,शिवचंद प्रजापति, गीता राय, रमेश प्रताप यादव, सत्य प्रकाश सिंह, अरुण दूबे, संदीप पटवा, आशीष शुक्ला, ददन यादव, सत्य प्रकाश सिंह,अतहर अली, घनश्याम सैनी,मनोज कुमार मिश्र, गोरखनाथ सिंह, प्रशांत मिश्र आदि पदाधिकारी गण ने संबोधित किया।धरने में अभिषेक त्रिपाठी,कमलेश यादव,मनु वर्मा, गोपाल यादव, अलाउद्दीन, अनिल यादव, शैलेंद्र नाथ चौबे, शिखा जायसवाल,शालिनी तिवारी, सुजाता तिवारी, सुधा यादव सुधीर तिवारी, रितु, संगीता शुक्ला, पूनम सिंह, सुजाता मिश्रा, सुधा यादव ,अंजली यादव, सोनम यादव, मकरध्वज यादव, अजय प्रताप सिंह, गोपाल यादव, अरुणकुमार गौतम, प्रिया गुप्ता, श्रीराम, प्रियंवदा, नुसरत जहां, अश्विनी कुमार, रामनिवास, रवि प्रताप यादव, जसवंत सिंह, संध्या यादव, राघवेंद्र द्विवेदी, पल्लवी सिंह, कंचन लता मिश्रा, अरुण गौतम आदि सैकड़ो शिक्षक उपस्थित रहे।