राजयोग से मनुष्य के अंदर की शक्ति बढ़ जाती है - दीदी निर्मला
कृपाशंकर यादव
गाजीपुर । प्रजापति ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय द्वारा क्षेत्रीय रेलवे प्रशिक्षण संस्थान में प्रशिक्षण के लिए आए हुए लोको पायलट और स्टेशन मास्टर के लिए राजयोग मेडिटेशन विषय पर कार्यक्रम आयोजन किया गया। इस अवसर पर ब्रह्म कुमारी निर्मला बहन ने कहा कि राजयोग मेडिटेशन जीवन जीने की एक कला है जीवन को सही ढंग से जीने के लिए अपने विचारों पर नियंत्रण करना जरूरी है।राजयोग से हम अपने विचार मन बुद्धि संस्कार गुस्से पर नियंत्रण कर सकते हैं।उन्होंने बताया कि राजयोग से हम इंद्रियों को भी नियंत्रित कर सकते हैं। राज योग से मनुष्य के अंदर की शक्ति बढ़ जाती है उन्होंने बताया कि कमजोरी से ही तनाव होता है। और हम बाहरी बातों को दोष देते हैं तनाव में रहते हुए हम अच्छा कार्य नहीं कर सकते इसलिए तनाव से मुक्त रहना बहुत जरूरी है उन्होंने कहा कि राजयोग द्वारा सकारात्मक जीवन शैली अपनाकर तनाव से मुक्ति पाएं। नकारात्मक विचारों एवं दृष्टिकोण से मनुष्य का जीवन कठिन हो गया है मानव अपने ही जीवन में उलझ गया है उन्होंने बताया कि जीवन में अलग अलग परिस्थितियां आती हैं हमें तुरंत घबराने के बजाय पहली परिस्थिति का अध्ययन करना चाहिए तब कोई कार्य करना चाहिए। ऐसा करने से हम तनाव पर काबू पा सकते हैं इस मौके पर संस्था के प्रधानाचार्य हीरालाल ने कहा कि प्रशिक्षुओ के लिए इस तरह के लिए हम इस तरह के आयोजन आगे भी करते रहेंगे इस अवसर पर वरिष्ठ अनुदेशक राजेश प्रसाद, कमलेंद्र किशोर, अनुदेशक अजीत राय, राय रविंद्र, कार्यालय बीके यादव, वार्डन अभय कुमार सिंह यादव आदि लोग उपस्थित रहे।