शव पर स्वामित्व को लेकर मायका और ससुराल पक्ष में विवाद
सुभाष सिंह यादव की रिपोर्ट।
गाजीपुर-नंदगंज पुलिस ने मायका व ससुराल पक्ष के लोगों की सहमति से विवाहिता का शव दाह-संस्कार के लिए उसके ससुर को सौंप दिया। नोएडा में पोस्टमार्टम के बाद इमिलियां निवासी अमरनाथ बिंद की बहू मंजू का शव उसके मायका पक्ष के राजेश राम, सुशीला देवी, संजय बिंद व जनार्दन को मिला था। शव एम्बुलेंस से ज्यों ही थाना गेट के पास पहुंचा, मायके पक्ष के लोगों ने भारी संख्या में शव को घेर लिया और किसी के बहकावे में आकर नंदगंज थानाध्यक्ष से कार्यवाही की मांग करने लगे। जबकि घटना नोएडा की है। जिन्हें थानाध्यक्ष सत्येंद्र कुमार राय ने समझा बुझाकर थाना गेट से हटाया। इस दौरान करीब 30 मिनट तक भीड़ थाना गेट पर जमी रही। बता दें कि मंजू पुत्री सुखराम निवासिनी बंधवा थाना कोतवाली मोहम्मदाबाद की शादी 15 मई 2015 को अवधेश बिंद पुत्र अमरनाथ निवासी इमिलियां के साथ हुई थी। दोनों नोएडा के सेक्टर 45 में किराए के मकान में रहते थे। अवधेश बिंद दिल्ली में नौकरी करता था। 23 सितम्बर को मंजू की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी। मृतका मंजू के भाई शशिकांत बिंद ने नोएडा सेक्टर 39 में पति अवधेश बिंद, देवर राजू बिंद, ससुर अमरनाथ व सास अमला देवी के खिलाफ हत्या की नामजद तहरीर देते हुए कहा कि उक्त लोगों ने मेरी बहन की हत्या की है। दाह संस्कार चोचकपुर घाट पर किया गया। मृतका का एक 5 वर्षीय पुत्र है।