कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पुलिस मे झड़प
जयंत यादव क्राइम रिपोर्टर सदर गाजीपुर
गाजीपुर-कांग्रेस नेताओं पर दर्ज फर्जी मुकदमा वापस लेने के लिए जिलाधिकारी का कांग्रेस जनों ने घेराव किया।जिला शहर कांग्रेस कमेटी के संयुक्त रूप से नौ बार विधायक रहे एवं राज्यसभा के पूर्व सांसद पंडित प्रमोद तिवारी और उनकी पुत्री कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा “मोना” के विरुद्ध जो फर्जी तरीके से मुकदमे कायम किए गए हैं उन्हें वापस लेने के लिए कांग्रेसियों का प्रतिनिधि मंडल दल सुनील राम व सुनील साहू के नेतृत्व में जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया। इसके पहले जिलाधिकारी के न आने पर कांग्रेश जन ने जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए और पुलिस प्रशासन से तीखी नोकझोंक हुई बाद में शहर कोतवाल व वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने दोनों पक्षों को शांत कराया। धरने को संबोधित करते हुए कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुनील राम ने कहा कि अविलंब राज्य सरकार द्वेष पूर्ण राजनीति को छोड़कर हमारे नेता प्रमोद तिवारी और उनके पुत्री के ऊपर किए गए मुकदमे को वापस लिए जाएं नहीं तो हम कांग्रेशजन आंदोलन के लिए बाध्य होंगे और इस योगी के जेल में हजारों की तादात में गिरफ्तारी देंगे। योगी जी तुम्हारे जेल में जगह कम पड़ जाएगी,वही कांग्रेस शहर अध्यक्ष सुनील साहू ने कहा कि 50 वर्षों के राजनीतिक काल में श्री प्रमोद तिवारी की छवि बेदाग रही है और आज तक उनके ऊपर कोई भी मुकदमा नहीं था लेकिन यह तानाशाही,भ्रष्ट व निकम्मी योगी सरकार ने जिस तरीके से प्रमोद तिवारी और उनकी पुत्री आराधना मोना के ऊपर मुकदमे किए हैं यह लोकतंत्र के इतिहास में काला दिन के रूप में माना जाएगा। इस कार्यक्रम में सर्व श्री सुरेंद्र सिंह, जनक कुशवाहा, पंकज दुबे, रवि कांत राय ,लाल साहब यादव, हिमांशु श्रीवास्तव, डॉ मार्कंडेय सिंह, संटू जैदी, मनीष कुमार राय, माधव कृष्ण, चंद्रिका सिंह, अनुराग पाण्डेय, सतीश उपाध्याय, संदीप विश्वकर्मा, राजेश गुप्ता, अभय कुशवाहा, रतन तिवारी, शफीक अहमद, राकेश राय ,अखिलेश यादव ,जय विजय गुप्ता, राघवेंद्र चतुर्वेदी ,अवधेश साहू, ओमप्रकाश पांडे ,शशि भूषण राय ,उमाशंकर सिंह, राजेंद्र बनवासी इत्यादि शामिल रहे।