गोंद लिए सरकारी अस्पतालों के नहीं बदले हालात*
सुभाष सिंह यादव की रिपोर्ट।
गाज़ीपुर । सादात भाजपा के वर्तमान और पूर्व पदाधिकारियों द्वारा गोंद लिए जाने के बाद सरकारी अस्पतालों की स्वास्थ्य सुविधा में बदलाव की उमीद जगी थी। परन्तु तीन माह में अस्पतालों के खराब हैंडपंपों की मरम्मत, कैम्पस की साफ-सफाई और बिजली कनेक्शन के कार्य के अलावा कुछ नहीं हुआ। मरीजों के लिए स्वास्थ्य सुविधा में कोई बदलाव नजर नहीं आ रहा। जनता का कहना है कि भाजपाइयों का दावा कोरा साबित हुआ। उधर गोंद लेने वालों की पीड़ा यह है कि इसके लिए उन्हें कोई अतिरिक्त राशि उपलब्ध नहीं कराई गई। मंत्री-विधायक होते तो अपने निधि से भी कोई कार्य करा लेते, परन्तु यहां तो अपने संशाधनों से सुविधा विस्तार कराने की बात थी। हालांकि इनके द्वारा विभाग से लगायत शासन को इस बाबत पत्र जरूर लिखा गया है। देखना यह है कि कब तक अस्पतालों का कायाकल्प होता है। सीएचसी को नगर के फीडर से दिलाई बिजली की सौगात सादात। सीएचसी को गोंद लेने के बाद भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष बृजेन्द्र राय ने नगर के फीडर से बिजली दिलाने की सौगात तो जरूर दी, लेकिन स्वास्थ्य सुविधाओं में कोई बदलाव नहीं दिख रहा। उन्होंने साफ-सफाई कराया, लेकिन वह भी बरसात के कारण कैम्पस में घास उग आने से नाकाफी प्रतीत हो रहा है। हालांकि उन्होंने जिला मुख्यालय सहित शासन को पत्र लिखकर सुविधा विस्तार की मांग जरूर की है सीएचसी बनी पर पीएचसी है मालिक सादात। नगर स्थित पीएचसी को उच्चीकृत कर सीएचसी तो बना दिया गया, लेकिन इसका मालिक आज भी मिर्जापुर पीएचसी ही है। रोगी कल्याण निधि हो अथवा सीएचसी को अन्य किसी मद में मिलने वाला बजट हो, उसका मालिक मिर्जापुर पीएचसी ही है। संचालन का काम मिर्जापुर से ही होता है। इसके लिए विभागीय अधिकारियों को अनेक बार पत्र लिखकर अवगत कराने का भी कोई लाभ नहीं हो रहा। मिर्जापुर में कीचड़ व जलजमाव से नहीं मिला निजात मिर्जापुर। पीएचसी को भाजपा प्रदेश कार्य समिति सदस्य शोभनाथ यादव द्वारा गोंद लेने के बाद हैंडपंप मरम्मत का कार्य कराया गया। साथ ही अस्पताल कैम्पस से होकर गुजरने वाले विद्युत तार को सही कराया गया। प्रतिदिन 60-70 की ओपीडी वाले इस अस्पताल के जर्जर आवासीय भवन, अस्पताल परिसर में कीचड़ व जलजमाव है हालत में बदलाव नहीं हुआ। देखना है कि स्वास्थ्य सुविधाओं और संशाधन विस्तार की आस कब पूरी होती है। इन्वर्टर तक की नहीं है कोई व्यवस्था भीमापार। भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष रघुबंश सिंह पप्पू ने अपने गोंद लिए अस्पताल पर खराब हैंडपंप को रिबोर कराने के साथ ही ब्लाक से कर्मचारियों को बुलवाकर साफ-सफाई का कार्य तो जरूर कराया, परन्तु स्वास्थ्य सुविधा विस्तार की कल्पना अभी भी अधूरी है। यहां इन्वर्टर तक की व्यवस्था नहीं है। बिजली कटने के बाद पसीने से तर-बतर कर्मचारी कैसे काम करते होंगे, इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। पांच में से दो पंखे बिगड़े पड़े हैं। स्वास्थ्य सुविधा को लेकर ग्रामीणों में निराशा का माहौल रायपुर। भाजपा जिला उपाध्यक्ष ओमप्रकाश राम द्वारा गोंद लेकर पीएचसी के स्वास्थ्य सुविधाओं में विस्तार का प्रयास धरातल पर नजर नहीं आ रहा। अतिरिक्त चिकित्सकों की नियुक्ति हो अथवा संशाधन विस्तार जैसा कुछ भी नहीं होने से क्षेत्रीयजनों में निराशा का माहौल है। डढ़वल के अस्पताल पर नहीं पड़ी किसी भाजपाई की नजर सादात। डढ़वल स्थित सरकारी अस्पताल को किसी भाजपा नेता ने गोंद लेना मुनासिब नहीं समझा। किराए के भवन में चलने वाला अस्पताल जर्जर भवन में संचालित है। इसका खुद का भवन वर्षों से आधा अधूरा बनकर छूटा है।