सोनौली के रास्ते नेपाल पहुंचे 11 अफगानी, काठमांडू में पकड़े गए; मिला फर्जी आधार कार्ड,बड़ी चूक
ब्यूरो महराजगंज।
महराजगंज से सटे नेपाल बॉर्डर पर सुरक्षा एजेंसियों की बड़ी चूक सामने आई है। यहां सोनौली बॉर्डर से 11 अफगानिस्तानी नागरिक अवैध रूप से नेपाल पहुंच गए, जिनको नेपाल पुलिस ने छापा मारकर काठमांडू से गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि सभी के पास फर्जी आधार कार्ड मिले हैं। इसी आधार कार्ड पर अफगानिस्तानी नागरिक भारतीय बनकर नेपाल में आसानी से दाखिल हो गए। भारत नेपाल सीमा पर बसे सोनौली के रास्ते नेपाल पहुंचे 11 अफगानी नागरिकों को काठमांडू के सिनामंगल से गिरफ्तार किया गया है। डीआईजी धीरज प्रताप सिंह के मुताबिक, नेपाल पुलिस के केंद्रीय जांच ब्यूरो ने सोमवार को सिनामंगल के एक घर से इन्हें गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए छह लोगों के पास से भारत के आधार कार्ड भी बरामद किए गए हैं। सूत्रों के मुताबिक पकड़े गए अफगानियों में अमनुल्लाह मोहम्मदी, अजमल सरिफी, अकम जाजाई, रोमल होटक, इसनुल्लाह हसेमी, इमरान अलि जादा, मोहम्मद जमराई सनिकजाई, नजिफा स्तानिकजाइ, मिस्बाह जैनव स्तानिकजाइ, नुरुल हाया स्तानिकजाई, मोहम्मद रायन स्तानिकजाई हैं। इन लोगों से नेपाल के सीआईबी अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं। पुलिस ने बताया कि बरामद भारतीय आधार कार्ड फर्जी थे। अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता में आने के बाद यह सभी भाग गए थे और भारत के रास्ते नेपाल में प्रवेश कर गए। जांच में जो बातें सामने आई हैं, उसके मुताबिक, यह सभी अफगानी रूपन्देही में नेपाल-भारत सीमा पर बेलहिया से नेपाल में प्रवेश कर गए। यह सीमा सोनौली से सटी है। जहां पर भारी संख्या मे एसएसबी के जवान तैनात रहते हैं। पकड़े गए अफगानी नागरिकों ने नेपाल पुलिस को बताया उन्हें बॉर्डर पर कोई परेशानी नहीं हुई। वे बहुत ही आसानी से सोनोली बाडर से नेपाल में आए।