कर्मचारी शिक्षक अधिकारी एवं पेंशनर्स अधिकार मंच के आवाहन पर प्रदेश व्यापी आंदोलन
कृपाशंकर यादव
गाजीपुर-कर्मचारी शिक्षक अधिकारी एवं पेंशनर्स अधिकार मंच के आवाहन पर प्रदेश व्यापी आंदोलन के प्रथम चरण में जनपद गाजीपुर में हजारों की संख्या में शिक्षक , कर्मचारियों अधिकारी और पेंशनर ने पुरानी पेंशन बहाली सहित अन्य मांगों के समर्थन में नारा लगाते हुए एक विशाल जुलूस सिंचाई विभाग चौराहे से निकला जो शहर के विभिन्न मार्गो से होते हुए विकास भवन पहुंचा ,जहां पर जलूस एक सभा मे परिवर्तित हो गया।सभा के बाद 21 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन जिलाधिकारी के प्रतिनिधि तहसीलदार सदर को सौंपा गया। मोटरसाइकिल जुलूस का नेतृत्व अधिकार मंच के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह व संयोजक अंबिका दुबे एवम उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला मंत्री जितेंद्र कुमार यादव ने संयुक्त रूप से किया। जुलूस में कर्मचारी अपनी मांगों के समर्थन में व सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए चल रहे थे। मंच के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार यदि पुरानी पेंशन बहाली सहित अन्य मांगें नहीं मानती है तो सरकारी शिक्षक महाहड़ताल करने को विवश होंगे। मंच के संयोजक अंबिका प्रसाद दुबे ने कहा कि यदि नई पेंशन नीति इतनी ही अच्छी है तो माननीय सांसद ,विधायक पुरानी पेंशन ही क्यों ले रहे हैं।“हमें नई और तुम्हें पुरानी पेंशन अब नही चलेगी। उन्होंने कहा कि जो भी राजनीतिक दल अपने चुनावी घोषणा पत्र में पुरानी पेंशन बहाली की मांग को सर्वोच्च प्राथमिकता देंगा, इस बार कर्मचारी समाज व उनके परिजन उसी पार्टी को समर्थन करेंगे। मांगों में सर्व प्रमुख पुरानी पेंशन बहाल करने, पूर्व में कोई अंशदायी , सामाजिक, वर्कचार्ज, अंशकालीन, दैनिक वेतन की सेवा को जोड़कर लाभ प्रदान करने, समस्त कर्मचारी शिक्षकों को कैशलेस चिकित्सा व्यवस्था प्रदान करने, सातवें वेतन आयोग की वेतन विसंगति दूर करने, सभी शिक्षामित्र, अनुदेशक, रसोईया, आंगनवाड़ी,होमगार्ड, मनरेगा कर्मियों का विनयमिनीकरण चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के मृत समवर्गों को पुनर्जीवित कर भर्ती करने, संविदा आउट सोर्स व निजीकरण की प्रथा बंद करने, ग्रामीण सफाई कर्मियों को ग्राम प्रधानों से मुक्त करने आदि प्रमुख है। आज की मोटरसाइकिल जुलूस सिचाई विभाग चौराहे से शुरू होकर कलेक्ट्रेट , जिला अधिकारी आवास से होते हुए विकास भवन तक हुआ , इसमें सहभागिता करने वाले प्रमुख संगठनों में उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ, उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ, कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ, चतुर्थ कर्मचारी महासंघ, फेडरेशन ऑफ यूनिवर्सिटी, टीचर एसोसिएशन, पेंशनर संगठन, व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद से संबद्ध समस्त संगठनों कर्मचारी सैकड़ों की संख्या में उपस्थित रहे।