विश्व नागरिक स्वास्थ्य दिवस पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन
कृपाशंकर यादव
गाजीपुर 10 अक्टूबर 2021- माननीय राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, लखनउ के निर्देशों के अनुपालन में आज दिनांक 10.10.2021 को आजादी का अमृत महोत्सव के अभियान के अन्तर्गत कामायनी दूबे, पूर्णकालिक सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, गाजीपुर द्वारा विश्व नागरिक स्वास्थ्य दिवस पर मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम का प्रचार-प्रसार एवं मानसिक रूप से बीमार व्यक्तियों के अधिकार विषय पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मलिन बस्ती हाथीखाना, गाजीपुर में जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। सचिव द्वारा बताया गया कि मानसिक स्वास्थ्य स्वास्थ्य के सबसे उपेक्षित क्षेत्रों में से एक है। लंबे समय तक चिंता, डिप्रेशन यानी अवसाद में तब्दील हो सकती है। मानसिक स्वास्थ्य हमारे जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित करता है यह बताता है कि हम कैसा सोचते है, कैसा महसूस करते है और जीवन को किस तरह से जीते है और जीवन की समस्यों का हल कैसे करते है या उनका समाधान कैसे करते है यही बातें हमारे मानसिक स्वास्थ्य के स्तर को तय कर देती है। मेंटल हेल्थ में हमारा भावनात्मक संतुलन, मनोवैज्ञानिक स्तर के साथ ही सोशल वेलबीइंग शामिल भी है। हमारा मानसिक स्वास्थ्य यह निर्धारित करने में भी मदद करता है कि हम तनाव से कैसे निपटते है और जीवन में कैसे संतुलन बनाए रखते है। बचपन से लेकर किशोरावस्था से लेकर वयस्कता और उम्र बढ़ने तक जीवन के हर कदम में मानसिक स्वास्थ्य महत्वपूर्ण है। डा0 आनन्दपुरी के द्वारा बताया गया कि सकारात्मक दृष्टिकोण रखने का प्रयास करना महत्वपूर्ण है ऐसा करने के कुछ तरीकों में शामिल है, जिसके सकारात्मक और नकारात्मक भावनाओं के बीच आप संतुलन बनाते है सकारात्मक रहने का मतलब यह नही कि आप कभी भी निराशा या क्रोध जैसी नकारात्मक भावनाओं को महसूस नही करते है आपको उन्हे महसूस करने की आवश्यकता है ताकि आप कठिन परिस्थितियों से आगे बढ़ सके वे इमोशन आपको किसी भी समस्या को हल करने में हेल्प कर सकती है। इस अवसर पर डा0 एकान्त पाण्डेय, फिजिशियन, डा0 ईशानी वर्धन, डा0 के0के0 वर्मा, डा0 एस0के0 सिंह, रविशंकर चौरसिया, अशोक कुमार, सम्पूर्णानंद पाण्डेय, राजेश सिंह तथा पराविधिक स्वयं सेवक सत्य प्रकाश, शशीप्रकाश, सुभाष कुमार भारती, सुभाष कुमार आदि लोग उपस्थि थे।