चौरीचौरा शहीद स्मारक पर मुशायरा एवं कवि सम्मेलन संम्पन** शायरी की जुबान सिर्फ मोहब्ब्त की जुबान-डॉ. सौरभ पाण्डेय
**
पी एन पाण्डेय** कविता समाज का आईना होता है-राकेश श्रीवास्तव शहीदों को शत शत नमन हमारा-मिन्नत गोरखपूरी नई दिल्ली उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी उत्तर प्रदेश सरकार एवम साहित्य एडुकेशनल सोसाइटी के संयुक्त तत्वावधान में आजादी के 75 वे वर्षगांठ अमृत महोत्सव के अवसर पर चौरीचौरा शताब्दी वर्ष के तहत शहीद स्मारक के आडिटोरियम हाल में शनिवार को मुशायरा एवं कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत तरन्नुम नाज फतेहपुरी के नज्म या रब जवां लाल किसी मां से न जुदा हो से हुई। नासिर फराज, पंडित भूषण त्यागी, तनवीर जलालपुरी, अख्तर आजमी, वसीम रामपुरी,डॉ. मनोज कुमार गौतम मनु , दीदार बस्तवी, विभा शुक्ला, मैकश आजमी,मिन्नत गोरखपुरी ,बिभा शुक्ला,आदि ने भी अपनी रचनाओं को बेहतर तरीके से पेश किया। कार्यक्रम का शुभारंभ राकेश श्रीवास्तव, डॉ. सौरभ पाण्डेय,चेयरमैन सुनीता गुप्ता, पूर्व प्रमुख ईश्वरचंद जायसवाल, चेयरमैन प्रतिनिधि ज्योति प्रकाश गुप्ता, विधायक प्रतिनिधि जितेंद्र यादव, सुभाष दुबे ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर किया। मुख्य अतिथि धराधाम इंटरनेशनल के प्रमुख होनरेरी प्रोफेसर डॉ. सौरभ पांडेय ने कहा कि शायरी की जुबान सिर्फ मोहब्बत की जुबान होती है। विशिष्ट अतिथि ईश्वरचन्द जायसवाल ने कहा कि चौरीचौरा की धरती शहीदों और वीरों को धरती है। अध्यक्षता संगीत नाटक अकादमी के सदस्य राकेश श्रीवास्तव ने की। संचालन रेहान जिगर ने किया। संयोजक प्रकाश नूरा रहे। आयोजन उर्दू अकादमी एवं साहित्य एजुकेशनल सोसायटी के संयुक्त तत्वावधान में किया गया। हाजी जलालुद्दीन कादरी, विधायक प्रतिनिधि जितेंद्र यादव, ध्रुव श्रीवास्तव, श्वेता मिश्रा, दिव्या मालवीय, विशाल, शक्ति, राजकुमार आदि मौजूद थे।इस अवसर पर डॉ. एहसान अहमद ,वर्ल्ड रेकॉर्ड होल्डर डॉ. विनय श्रीवास्तव, कृपा शंकर राय,कनक हरि अग्रवाल,सुभाष दुवे,शिवेंद्र पाण्डेय,ध्रुव श्रीवास्तव,अजय सिंह टप्पू जावेद अंसारी,गणेश दूबे आदि को सम्मानित किया गया।