तहसील मुख्‍यालयो पर लगाया जायेगा दस बड़े बकायेदारो की सूची- डीएम
*हुलाश चन्द्र यादव*
जिलाधिकारी एम पी सिंह  की अध्यक्षता में कर-करेत्तर एंव मासिक स्टाफ बैठक राईफल क्लब सभागार में सम्पन्न हुआ। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि जनपद के समस्त तहसीलो में 212 तालाबो पर हुए अतिक्रमण का सम्बन्धित उपजिलाधिकारी एवं तहसीलदार द्वारा प्रत्यके माह कम से कम एक तालाब को अतिक्रमण मुक्त कराने तथा उसका प्रमाण पत्र देने के बाद ही सम्बन्धित का वेतन रीलिज किया जायेगा।  यह अभियान इस माह से लागू होगा। उन्होने जनपद के बडे बकायेदारो की टॉप देन स्तर की आर सी की सूची उपजिलाधिकारी , तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार के स्तर की बनाते हुए वसूली करने का निर्देश दिया। आडिट आपत्ति में अनुपालन आख्या की जानकारी ली तथा नजारत, भूलेख तथा तहसीलदार कासिमाबाद की पिछले माह की आडित आपत्ति शून्य होने पर सम्बन्धित से  स्पष्टिकरण मांगा । जिलाधिकारी ने जिन-जिन तहसीलो में बाढ एंव पिछले दिनों हुए वर्षा के कारण जो भी नुकसान हुए है उसे सर्वे कराकर तहसीलवार आनलाईन फीडिंग कराने का निर्देश दिया तथा समस्त उपजिलाधिकारी को निर्देश दिया कि  वरासत के मामले में लेखपालो  एवं कानून-गो स्तर के दबाये गये सबसे पुराने प्रकरणो को की समीक्षा करते हुए सम्बन्धित लेखपालो एंव कानून-गो से स्पष्टिकरण मांगे।      बैठक में जिलाधिकारी ने चकबन्दी, व्यापार कर, विद्युत देय, आबकारी , औद्योगिक ऋण, बाट माप, बैक देय, परिवहन, मण्डी समिति, वन विभाग, स्टाम्प, नगर पालिका, आडिट आपत्ति, अंश निर्धारण, आईजीआरएस, मोटर देय, काउण्डर फाईल, के सम्बन्ध  विस्तारपूर्वक समीक्षा की। समीक्षा के दौरान कम राजस्व प्राप्ति वाले विभागो के प्रति नाराजगी व्यकत करते हुए उन्होनें समस्त सम्बन्धित अधिकारियों को अपने लक्ष्य के प्रति प्रत्येक माह पूर्ण योजना बनाकर मूर्त रूप प्रदान करने निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों  को  निर्देश दिया कि राजस्व प्राप्ति के संबंध में जो विभाग कार्य कर रहे हैं उनके द्वारा अपने-अपने लक्ष्य को प्रत्येक माह उसे पूर्ण कर अंतिम रूप प्रदान किया जाए ताकि सभी विभागों में राजस्व प्राप्ति के लक्ष्य पूर्ण किए जा सकें। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही एवं शिथिलता क्षम्य नहीं होगी। उन्होंने स्पष्ट किया है कि जिन विभागीय अधिकारियों के द्वारा अपने राजस्व लक्ष्यों की प्राप्ति नहीं की जाएगी उनके विरुद्ध कार्यवाही प्रस्तावित की जाएगी। जिसकी जिम्मेदारी स्वयं संबंधित  विभागीय अधिकारी की होगी। इसके उपरांत जिलाधिकारी ने मासिक स्टाफ बैठक में राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ ली। बैठक में लंबित प्रकरण एवं विवादित, दाखिल खारिज 122बी0 में विवादित वादो का निस्तारण करने को कहा। जिलाधिकारी ने आडिट आपत्ती, व्यापार कर, परिवहन कर, बैंक देय, तथा जनपद के बडे बकायादारो के सम्बन्ध मे जानकारी ली, तथा उनसे वसूली करने तथा बकाया न देने वाले व्यक्तियों पर शासनात्मक कार्यवाही करने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि समस्त अधिकारी राजस्व वसूली का कार्य सर्वाेच्च प्राथमिकता के आधार पर करते हुए डिमांड के अनुसार वसूली सुनिश्चित करे। उन्होंने राजस्व वादों के निस्तारण में समीक्षा करते हुए राजस्व वादों के निस्तारण के संबंध में सभी पीठासीन अधिकारियों द्वारा शिकायतो का निस्तारण गुण एवं दोष के आधार पर कार्रवाई करते हुए सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी आइ जी आर एस की समीक्षा के दौरान सभी डिफाल्टर शिकायत पत्रो को तीन दिनों के भीतर निस्तारण कराने का  निर्देश दिया। उन्होने कहा कि इसकी समीक्षा शासन स्तर से की जाती है। इस हेतु सभी अधिकारी बराबर पोर्टल पर चेक करते हुए ससमय शिकायत पत्रो का निस्तारण करायें। बैठक में अपर जिलाधिकारी वि0रा0 अरूण कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी भू0रा0, उपजिलाधिकारी, तहसीलदार एंव पटल सहायक उपस्थित थे।