ट्रैक पर बैठे किसान,रेल रोकते सैकड़ों कार्यकर्ता गिरफ्तार*
गुड्डू सिंह यादव की रिपोर्ट।
गाजीपुर-संयुक्त किसान मोर्चा के राष्ट्रीय आह्वान पर अखिल भारतीय किसान संघर्ष समिति के कार्यकर्ताओं ने पूर्व निर्धारित, कार्यक्रम के तहत, मंहगाई पर लगाम लगाओ, रसोई गैस, सिलेंडर, सरसों तेल, डीजल पेट्रोल कीमतों पर लगाम लगाओ, लखीमपुर में किसानों के जनसंहार के जिम्मेदार केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करों, जनसंहार के दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दो, किसान विरोधी तीनों काले कृषि कानूनों को रद्द करों, एम एस पी की गारंटी के लिए कानून बनाओ, आदि सवालों को लेकर गाजीपुर सीटी स्टेशन और दिलदारनगर जंक्शन पर रेल रोको कार्यक्रम के तहत मार्च किया।तमाम कार्यकर्ताओं को दिलदारनगर जंक्शन पर रेल रोकने के बाद गिरफ्तार कर पुलिस थाने ले गई। सीटी स्टेशन प्रांगण में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि, योगी- मोदी सरकार अंग्रेजी हुकूमत के जमाने के बने काले कानूनों के जरिए लोकतांत्रिक जनांदोलनों का हाउस अरेस्ट कर, नजरबंद करके दमन कर रही है। संविधान ने हमें शान्ति पूर्ण आन्दोलन का जो अधिकार दिया है मोदी- योगी सरकार उन अधिकारों का गला घोंटने पर उतारू हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य से लेकर सरकारी क्षेत्रों को मोदी सरकार बड़े कॉरपोरेट घरानों के हाथों बेच रही है।सबका साथ सबका विकास,सबका विश्वास के नारे के साथ आई।यह सरकार मजदूरों की रोजी-रोटी छिनकर, बेरोजगार युवाओं की फौज खड़ी कर, सरकारी पदों को समाप्त कर अडानी अंबानी समेत कारपोरेट घरानों के फायदे के लिए काम कर रही है। अब 130करोड़ लोगों का अन्न उपजाकर पेट भरने वाले किसानों की खेती हड़पने के तीन काले कृषि कानूनों को ला रही है। तथा एम एस पी की गारंटी के लिए कानून बनाने से बच रही है। उन्होंने कहा कि अगर समय रहते मोदी सरकार लखीमपुर में किसानों के जनसंहार के दोषी केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त नहीं करते, तथा लखीमपुर में किसानों के हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा नहीं नही मिल जाती है यह आंदोलन इंसाफ मिलने तक जारी रहेगा। कार्यक्रम को उत्तर प्रदेश किसान सभा के प्रदेश महामंत्री पूर्व विधायक राजेंद्र यादव, जिलाध्यक्ष जनार्दन राम,बिजय बहादुर सिंह, जिलाध्यक्ष किसान महासभा, अखिल भारतीय किसान महासभा के जिलाध्यक्ष गुलाब सिंह, योगेन्द्र भारती, राजेश वनवासी, मुहम्मद नसीरुद्दीन, रामदरश योगेन्द्र यादव, नंदकिशोर बिंद, शिवकुमार कुशवाहा,राजदेव यादव, घूरा यादव, ईश्वर लाल गुप्ता, ने सम्बोधित किया। ‌