सैनिक ओम प्रकाश को दिया गया शहीद का दर्जा मंत्री ने दिया प्रमाण पत्र
कृपाशंकर यादव
गाज़ीपुर । कटघरा लेह के ऊँची पहाडियों पर तैनात सेना के नायक ओमप्रकाश बिंद का पार्थिव शरीर उनके पैतृक घर शादियाबाद थाना क्षेत्र के खुटहां गाँव आज लगभग 11 बजे सेना के वाहन से पहुंचा जहाँ सुबह 5 बजे से हजारों हजार की संख्या मे जुटे महिला,पुरूष नवजवान, बुढे बच्चों ने उनको नम आंखों से श्रद्धांजलि दी।इस अवसर पर उ प्र सरकार की सहकारिता राज्य मंत्री डा संगीता बलवंत और भाजपा जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने शहीद के शव पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी तथा गमगीन पत्नी एवं बच्चों को ढाढस बधाया। साथ सेना के आए अधिकारियों ने पुष्प चक्र अर्पित कर अपने जवान को बिदाई दी तो पुरे सैनिक सम्मान के साथ गार्ड आफ आनर भी सेना के जवानो ने दिया।तीन भाइयों मे सबसे छोटे ओमप्रकाश 2004 मे सेना मे भर्ती हुए थे।बाकी दो बडे भाई गांव पर ही खेतीबारी का काम करते है।पत्नी सुमन देवी,पुत्र ललित 10,सत्यम 7 वर्ष का रो रोकर बुरा हाल था।मुखाग्नि बडे भाई रामनरेश बिंद ने दिया।इस अवसर पर डा संगीता बलवंत तथा जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने सैनिक अधिकारियों से शहिद के परिवार को मिलने वाली अनुमन्य सहायता पर वार्ता किया एवं साक्ष्य स्वरूप शहीद का निधन प्रमाण पत्र पत्नी को सुपुर्द किया।इससे पहले हजारों युवा हाथों मे तिरंगा लिए भारत माता की जय,ओमप्रकाश अमर रहे, वंदेमातरम के नारे के साथ मोटरसाइकिल सायकिल, और पैदल ही जवान के शव वाहन के आगे आगे चल रहे थे।गांव के नजदीक पहुचने पर लोगों रेला शहीद के घर की ओर आखोँ मे आसूं लिए दौड़ पड़ा। राष्ट्र भक्ति का जज्बा ,देश के प्रति प्रेम,सेना के प्रति सम्मान का अतुलनीय विहंगम भाव जिसमें छोटे छोटे बच्चों तथा बुढी महिलाओं के हाथों मे भी छोटे छोटे तिरंगे झंडे देखने मे आया सच यही उत्साह और जोश है जो शहीदी धरती गाजीपुर को सेना के प्रति प्रेरित करता है। पुरे देश के किसी भी एक प्रदेश मे जितना राष्ट्र सेवा मे शहीद हुए होगे लगभग उतना बलिदानी गाजीपुर ने अकेले दिया है। इस अवसर पर भाजपा जिला मंत्री सुरेश बिंद, विधान परिषद सदस्य प्रतिनिधि पप्पू सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि पंकज सिंह चंचल,अच्छे लाल गुप्ता, भाजपा जिला मीडिया प्रभारी शशिकांत शर्मा,मनोज बिंद, मुरली कुशवाहा, जगदीश सिंह, ओंकार सिंह, पारस बिंद, संतोष सिंह, राम जी बलवंत,संजय बिंद आदि लोगों ने पार्थिव शव पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।