पुलिस अधीक्षक सीतापुर द्वारा अपराध गोष्टी आहूत की गई
रिपोर्ट पी एन वर्मा ब्यूरो सीतापुर
पुलिस अधीक्षक सीतापुर आर.पी. सिंह द्वारा जनपद के समस्त राजपत्रित अधिकारियों एवं थाना प्रभारियों की गोष्ठी आहूत की गयी। अपराध समीक्षा गोष्ठी रात्रि 10 बजे से 3.00 बजे तक प्रचलित रही। इस दौरान द्वारा प्राथमिकताओं को स्पष्ट करते हुए निम्न दिशा निर्देश दिये गये – आगामी/प्रचलित त्यौहारों शारदीय नवरात्र, दुर्गा पूजा मूर्ति विसर्जन, दशहरा आदि के संबंध में पूर्व से की जा रही तैयारियों की समीक्षा कर विशेष सतर्कता बरतते हुए कार्ययोजना बनाकर त्यौहारों को शांति पूर्वक संपन्न कराने के निर्देश दिये गये। आई.जी.आर.एस पोर्टल से प्राप्त शिकायतीं प्रार्थना पत्रों का समयबद्ध एवम् गुणवत्तापरक निस्तारण कराया जायें। आई.जी.आर.एस प्रार्थना पत्रों की जाँच आख्या के सम्बन्ध में फीडबैक ले। थानों पर लंबित विवेचनाओं/एनसीआर/जांच की विस्तृत समीक्षा कर त्वरित गुणवत्तापूर्ण निस्तारण किया जाए। महिला संबंधी अपराधों की समीक्षा करते हुए जिन प्रकरणो में आरोप पत्र प्रेषित किया जा चुका है उनमें अभियुक्त के विरूद्ध निरोधात्मक कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया। जिलाबदर अपराधियों, माफिया गैंगो व पूर्व से चिन्हित गैंगो की सक्रियता व उनके संदर्भ में कृत कार्यवाही की समीक्षा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। त्यौहारो के दृष्टिगत एंटी रोमियों टीमों के द्वारा बाजारों/चौराहो/कस्बो आदि पर निरंतर चेकिंग की जाये। 7. संवेदनशील स्थलों पर पी.आर.वी. आदि अन्य पुलिस बल के माध्यम से गश्त बढ़ायी जाये। विभिन्न अभियोगो में वांछित चल रहे अपराधियों की शीघ्र गिरफ्तारी सुनिश्चित कर ली जाये। सीतापुर से लगे विभिन्न बार्डरों पर सीमावर्ती जनपद की पुलिस से समन्वय स्थापित करते हुए सघन चेकिंग की जाये जिससे अपराधियो के आवागमन एवम् अपराध पर नियंत्रण हो सके।14(1) गैंगेस्टर एक्ट के अन्तर्गत अपराधियों द्वारा अपराध से अर्जित सम्पत्ति का चिन्हीकरण को बढ़ाने हेतु निर्देश दिये गये।अपराधियों द्वारा अपराध से अर्जित सम्पत्ति का शीघ्र पता लगाकर उसे कुर्क करने हेतु प्रस्ताव भेजने के लिये भी निर्देश दिये गये। शासन द्वारा कोविड-19 के दृष्टिगत समय समय पर प्रदत्त आदेश-निर्देशो का अनुपालन कराया जाना सुनिश्चित करे। गोवध, अवैध शराब, अवैध कटान, लूट एवम् हत्या आदि गंभीर अपराधों में लिप्त अपराधियों का नियमित सत्यापन किया जाए तथा उनके विरूद्ध नियमानुसार निरोधात्मक कार्यवाही की जाए।