नानकदेव जी का 552वां और गुरू तेगबहादुर जी का 400वां प्रकाश पर्व मनाया गया*
कृपाशंकर यादव
गाज़ीपुर । गुरु नानकदेव जी का 552वां और गुरू तेगबहादुर जी का 400वां प्रकाश पर्व गाजीपुर नगर के महाजन टोली स्थित गुरूद्वारा सिंह सभा में समारोहपूर्वक मनाया गया।इस अवसर पर सुबह से ही रागी जत्था द्वारा गुरू वाणी का कीर्तन प्रस्तुत किया गया।गुरूद्वारा के प्रबंधक सरदार दर्शन सिंह ने गुरू नानकदेव एवं गुरू तेगबहादुर जी के जीवन और उनके संदेश पर विस्तार से प्रकाश डाला।गुरू नानकदेव जी के संदेश को बताते हुए उन्होंने कहा कि वे मेहनत करने,भजन करने और मिल बांट कर खाने का संदेश दिए थे (नाम जपो,कीरत करो और बंड चखो)।नारियों को सम्मान देने का संदेश देते हुए गुरू नानकदेव ने कहा था कि महात्मा व ऋषि-मुनियों को जन्म देने वाली नारी ही है।गुरू तेगबहादुर ने शिखा,जनेऊ और तिलक की रक्षा करने के लिए अपना सर्वस्व बलिदान कर दिया। इस अवसर पर सहकारिता राज्य मंत्री डाॅ.संगीता बलवंत ,नगर पालिका परिषद,गाजीपुर के पूर्व अध्यक्ष विनोद अग्रवाल,मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्त,साहित्य चेतना समाज के संस्थापक अमर नाथ तिवारी अमर,सुखबीर एग्रो एनर्जी लि.फतेहउल्लाहपुर के प्रबंधक बाबी व मदन लाल वर्मा,शाह फैज पब्लिक स्कूल के प्रबंधक नदीम अदहमी,जिला व्यापार मण्डल के अध्यक्ष विजय शंकर वर्मा ने लोगों को बधाई दी।अंत में सरदार दर्शन सिंह ने सभी के प्रति आभार प्रकट किया।