वरासत अभियान के रिकॉर्ड का प्रयोग मतदाता पुनरीक्षण अभियान में करें अधिकारी- डीएम
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया -जिलाधिकारी अशुतोष निरंजन ने गूगल मीट के माध्यम से मतदाता पुनरीक्षण कार्यक्रम की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि पुनरीक्षण कार्यक्रम को निर्वाचन आयोग की मंशा के अनुरूप क्रियान्वित किया जाए। इस काम में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि 1 नवंबर से 30 नवंबर तक चलने वाले संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत जितना आवश्यक नए मतदाताओं को शामिल करना है, उतना ही जरूरी मृतक एवं अन्य विधानसभा क्षेत्रों में पलायन कर चुके मतदाताओं का नाम हटाना है। इससे मतदाता सूची त्रुटिरहित एवं अद्यतन होगी। उन्होंने बताया कि अभी हाल ही में जनपद में चले वरासत अभियान के अंतर्गत 22 हजार से अधिक लोगों के उत्तराधिकारियों का वरिसनामा दर्ज किया गया है, जिनका रिकॉर्ड राजस्व विभाग के पास है। उन्होंने सभी ईआरओ को निर्देश दिया कि राजस्व विभाग से उक्त रिकॉर्ड को प्राप्त कर मृतक मतदाताओं का नाम मतदाता सूची से हटाने के लिए विशेष अभियान चलाया जाए। जिला निर्वाचन अधिकारी ने समस्त ईआरओ 800 से कम जेंडर रेश्यो वाले बूथों को चिन्हित करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि जनपद के लिंगानुपात के सापेक्ष मतदाता सूची का लिंगानुपात कम है। इसे प्राथमिकता के आधार पर संतुलित करने की आवश्यकता है। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कम मतदान प्रतिशत वाले बूथों को भी चिन्हित करने का निर्देश दिया। ऐसे स्थानों पर जागरूकता अभियान अभी से चलाने का निर्देश दिया। समीक्षा बैठक के दौरान उप जिला निर्वाचन अधिकारी कुँवर पंकज, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट और सलेमपुर एसडीएम गुँजन द्विवेदी, एसडीएम ध्रुव शुक्ला, एसडीएम आरपी वर्मा, एसडीएम संजीव उपाध्याय सहित विभिन्न अधिकारी मौजूद थे।