आज मंदिर से ज्यादा शहीदो का मंदिर बनाना जरूरी है- महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति
जयंत यादव क्राइम रिपोर्टर गाजीपुर
सभी धर्मों से बड़ा राष्ट्र धर्म होता है इसके पालन से ही राष्ट्र समाज का कल्याण संभव है। देश की रक्षा के लिए सीमाओं पर अपनी जान की बलिदानी देने वाले शहीदों का स्थान इस देश में सर्वोच्च है। शहीद परिवार राष्ट्र की संपत्ति होती हैं इनको सम्मान देना सब का पुनीत कर्तव्य है। उपरोक्त बातें महावीर चक्र विजेता शहीद रामउग्रह पांडेय के 50वीं शहादत दिवस को संबोधित करते हुए जूना अखाड़े के वरिष्ठ महामंडलेश्वर और सिद्धपीठ हथियाराम मठ के पीठाधीश्वर स्वामी भवानीनंदन यति जी महाराज ने कहा।मंगलवार को शहीद रामउग्रह पांडेय के पैतृक गांव ऐमावंशी स्थित शहीद पार्क में आयोजित श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए श्री यति जी महाराज ने कहा कि भारत माता का बोझ इन्हीं जवानों के कंधों पर है। आज मंदिर से ज्यादा शहीदों का मंदिर बनाना जरूरी है। अपने उद्बोधन में शहीद पार्क को सवारने का आवाहन करते हुए उन्होंने कहा कि यहां से देश की जवानों को अतिरिक्त ऊर्जा का संचार होता है। मुख्य अतिथि राज्य सूचना आयुक्त किरण बाला चौधरी ने कहा कि शहीदों की धरती पर नमन करने का अवसर मेरे जीवन का सौभाग्य है। इस देश में हम तभी सुरक्षित हैं जब सीमा पर जवान हमारी रक्षा के लिए तत्पर हैं। ऐसे में उनके परिवार के सुख दुख की चिंता हम सभी का पुनीत कर्तव्य बनता है। उन्होंने शहीद राम उग्रह पांडेय को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहाकि इस शहीद का परिवार मेरे लिए अब रिश्ता सा बन गया है। इनके सुख-दुख के बाबत सदैव तत्पर रहूंगी। सहकारिता राज्य मंत्री संगीता बलवंत ने कहाकि यह शहीद जो देश की रक्षा के साथ ही तिरंगे की रक्षा किये हैं। यह देश विकासशील देश से अब विकसित देश की ओर जा रहा है। सीमा पर कोई दुश्मन आंख दिखाता है तो भारत के जवान दुश्मन की सीमा के अंदर घुसकर आतंकियों को मार जाते हैं। बिशिष्ट अतिथि प्रभुनाथ चौहान उपाध्यक्ष पिछड़ा वर्ग आयोग ने कहाकि गाजीपुर की बलिदानी धरती का सदस्य राष्ट्र के लिए मर मिटने का इतिहास रहा है ऐसे में इन बल रानियों का सम्मान करना हमारे जीवन का सौभाग्य है श्री चौहान ने उपस्थित लोगों का आह्वान करते हुए कहाकि सेना के जवानों के परिजनों का सम्मान करने से हम उन जवानों को ऊर्जावान कर सकते हैं। वहीं शहीदों का स्मारक किसी तीर्थ स्थल से कम नहीं है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रचारक डॉ सुरेश जी ने कहाकि गाजीपुर की शहीदी धरती जहां परमवीर चक्र के साथ ही महावीर चक्र जैसे वीरों का भी जन्म हुआ। यह माटी हमारे लिए चंदन के समान है। उन्होंने सनातन संस्कृति मे वर्णित राष्ट्र रक्षा के निमित्त संकल्प सूत्रों को दोहराते हुए लोगों का आह्वान किया कि जो जहां है वहीं से अपनी राष्ट्र रक्षा में भूमिका निभाना तय करें तभी इस राष्ट्र का कल्याण संभव है। आगंतुकों का आभार अखिल भारतीय सहित समाज सेवा समिति अध्यक्ष श्रीराम जायसवाल ने किया। इस अवसर पर अमृत महोत्सव के काशी प्रांत सह संयोजक डॉक्टर संतोष यादव, आरएसएस प्रचारक कमलेश प्रणामी, विजेंद्र राय, डॉ रत्नाकर त्रिपाठी, उप जिलाधिकारी जखनिया वीर बहादुर यादव, तहसीलदार जयप्रकाश, शहीद पुत्री सुनीता पांडेय, आरपी दुबे, कोतवाल शिव प्रताप वर्मा, पूर्व फौजी सतीश सिंह मंटू, डॉक्टर भुल्लन सिंह, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विभाग संयोजक रत्नेश जी, अंकित जायसवाल इत्यादि उपस्थित रहे। कार्यक्रम संचालन श्रीराम जायसवाल ने किया सशस्त्र सेना जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर कर दी श्रद्धांजलि मातमी धुन पर लोगों की आंखें हुई नम गाजीपुर। 1971 भारत-पाक युद्ध नायक महावीर चक्र विजेता शहीद राम उग्रह पांडे की 50वीं शहादत दिवस पर सशस्त्र सेना के जवानों द्वारा गार्ड आफ आनर दी गई वहीं मातमी धुन बजते ही लोगों की आंखें नम हो उठी। इस अवसर पर 8गार्ड रेजीमेंट से कैप्टन अमित गोस्वामी बीकानेर व 39 जीटीसी वाराणसी छावनी लेफ्टिनेंट कर्नल मनीष ध्यानी द्वारा पुष्प चक्र चढ़ाकर शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित कर की गई। पुष्प चक्र अर्पित करने वालों में सूबेदार मेजर ईश्वर पाल मौर्या, सूबेदार वृजराज चौहान, हवलदार मनोज मिश्रा, लेस नायक गौरी शंकर, नायक सुमित कुमार, हवलदार दिलीप कुमार गुप्ता और नायक विनोद यादव सहित दर्जनों की संख्या में जवान उपस्थित रहे।