छठ पर्व के पूर्व घाटों का निरीक्षण पूर्ण करें संबन्धित अधिकारीः एसपी
कमलाकर मिश्र की रिपोर्ट
देवरिया -छठ पर्व के पूर्व लोगों की सुविधा एवं सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टिगत रविवार को पुलिस अधीक्षक डा0 श्रीपति मिश्र की अध्यक्षता एवं अपर जिलाधिकारी कुॅवर पंकज एवं अपर पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सोनकर की उपस्थिति में समस्त उपजिलाधिकारी, क्षेत्राधिकारीगण एवं प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों के साथ पुलिस प्रेक्षागृह में समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। पुलिस अधीक्षक डा0 श्रीपति मिश्र ने कहा कि छठ पर्व पर गांवों एवं शहरों पर तालाबों, नदियों आदि स्थानों पर अधिक संख्या में श्रद्धालुओं द्वारा त्यौहार को मनाया जाता है। जिसके संबन्ध में संबन्धित अधिकारी त्यौहार के पूर्व घाटों का निरीक्षण कर लें तथा घाटों की साफ-सफाई संबन्धित कार्य को पूर्ण करा लिया जाये। प्रकाश की समुचित व्यवस्था हेतु जगह-जगह पर लाइट की व्यवस्था की जाये, जिससे श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े। नदियों के किनारे छठ पर्व मनाया जायेगा, जहां पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा संयुक्त रूप से घाट के किनारे नाव से पेट्रोलिंग की जाये। समस्त प्रभारी निरीक्षक व थानाध्यक्ष एवं संबन्धित प्रशासनिक अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत सतर्क दृष्टि रखें तथा किसी भी सूचना पर सतर्कता से मौके पर जाकर उसका समाधान करें जिससे त्यौहार के दिन कोई शांति व कानून व्यवस्था की समस्या उत्पन्न न हो। प्रत्येक स्थानों पर महिला पुलिस कर्मियों के साथ साथ पुलिस प्रबन्ध की समुचित व्यवस्था की जाये एवं समस्त पुलिस व प्रशासनिक अधिकारीगण अपने-अपने क्षेत्र में भ्रमणशील रहते हुए सतर्क दृष्टि रखेंगे। एडीएम (प्रशासन) कुँवर पंकज ने नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया कि घाटों की साफ-सफाई यथाशीघ्र पूर्ण कर ली जाए। छठ घाटों पर ब्लीचिंग, फॉगिंग से जुड़ी हुई गतिविधियां को संचालित किया जाए। समीक्षा बैठक के दौरान एसडीएम सदर सौरभ सिंह, एसडीएम रुद्रपुर संजीव कुमार उपाध्याय, एसडीएम बरहज ध्रुव कुमार शुक्ला, समस्त क्षेत्राधिकारी एवं समस्त नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी मौजूद थे। एक नजर- उप जिलाधिकारी बरहज ध्रुव कुमार शुक्ला ने बताया कि इस समय बरहज क्षेत्र में बहने वाली सरयू और राप्ती नदी में बहुत ज्यादा पानी है। उन्होंने बताया कि श्रद्धालु प्रशासन द्वारा निर्धारित घाटों व स्थानों पर तय सीमा तक ही जाए। उन्होंने क्षेत्र की जनता से सुरक्षा के दृष्टिकोण से अधिक जलस्तर वाले नदी क्षेत्र में न जाने की अपील की।