सूर्योपासना का महान पर्व डाला छठ पर व्रती महिलाओं ने बुधवारडूबते सूरज को अर्घ दिया*
कृपाशंकर यादव
गाजीपुर।सुख-समृद्धि एवं संतान की कामनाको लेकर रखा जाने वाला सूर्योपासना का महान पर्व डाला छठ पर व्रती महिलाओं ने बुधवार को नगर तथा ग्रामीण क्षेत्र के आसपास की व्रती महिलाओं ने विभिन्न तालाब,नहर में डूबते सूरज को अर्घ दिया। मे उत्तर श्रद्धालु ब्रती महिलाओ का शैलाब रहा। गाजीपुर के सभी गंगा घाटों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रही। तीन दिवसीय इस महापर्व के दौरान बड़ी संख्या में व्रती महिलाओ और श्रद्धालुओं ने अस्तगामी सूर्यदेव को अध्र्य देकर उपवास शुरू किया इस मौके पर छठी मइया और सूर्य देव की पूरे विधि विधान के साथ पारम्परिक तरीके पूजा अर्चना की गई। धार्मिक मान्यता के अनुसार अस्तगामी सूर्य को गंगा जल और दूध का अर्पण कर श्रद्धालु और व्रती महिलाएं अपनी घर परिवार के सुख और शान्ति की कामना करती है। इसके बाद अगले दिन तक के लिए उनका उपवास शुरू हो जाता है। अगले दिन उदय होते सूर्य को अध्र्य प्रदान कर इस महापर्व का समापन किया जाता है। डाला छठ के अवसर पर गाजीपुर में आज हजारों की श्रद्धालुओं और व्रती महिलाओं ने गंगातट पर पारम्परिक तरीके से ईख, सूप दवरा के साथ साथ विभिन्न प्रकार के प्रसाद चढ़ा कर पूजा अर्चना की । शहर के ददरीघट, महादेवा घाट, पोस्ता घाट, चीतनाथ घाट समेत जिले के ग्रामीणांचलों के मोहम्दाबाद घाट, सैदपुर घाट, युवराजपुर के गंगाघाटों पर श्रद्धालुओं का सैलाब नजर आया।इस मौके पर जहां व्रती महिलाओं के बीच उत्साह आस्था और धार्मिक संकल्पता नजर आयी वहीं इस महापर्व को लेकर किसी भी दुर्घटना के मद्देनजर प्रशासनिक बन्दोबस्त भी किए गए।