गाजीपुर : उत्तर प्रदेश परिवहन जनरथ उगल रही है काला धुआं, फैला रही प्रदूषण, तो हो जाइए अलर्ट*
रिपोर्ट गुड्डू यादव
गाजीपुर : वाहनों के साइलेंसर से निकलने वाले धुएं से प्रदूषण का खतरा बढ़ रहा है। प्रदूषण मापने का अभियान विभाग की ओर से नहीं चलाया जा रहा है। प्रदूषण जांच के नाम पर केवल वाहनों का प्रदूषण प्रमाण पत्र चेक किया जाता है। खास बात यह उत्तर प्रदेश परिवहन जनरथ काशी डिपो कि धुआं उगलते वाहनों का कोई विशेष जांच नहीं है। यही कारण है कि जहरीला धुआं उगलते वाहन भी दौड़ रहे हैं। क्षेत्र में कभी वाहनों के धुएं से दम घुटता है, तो कभी सुबह-सुबह कूड़े में लगाई गई आग से उठते धुएं में सांस लेना मुश्किल हो जाता है। यह रोज का हाल है। सुबह होते ही वाहनों की दौड़ भाग धुएं के रूप में जहर उगलने लगती है। वाहनों की भीड़ ऐसी कि सड़कें भी छोटी पड़ने लगी हैं। जर्जर हो चुके वाहन भी सड़कों पर दौड़ रहे हैं। बिना फिटनेस दौड़ रहे वाहनों से निकलने वाले धुएं से नगरवासियों का दम घुट रहा है। धुआं उगलने वाले वाहनों के कारण नगर में प्रदूषण का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। चिकित्सकों की माने तो वायु प्रदूषण से बीमार व बुजुर्ग लोगों की परेशानी बढ़ने लगी है। छोटे-छोटे बच्चे भी वायु प्रदूषण से प्रभावित हो रहे हैं। नगरवासियों का कहना है कि पुलिस विभाग प्राइवेट वाहनों के खिलाफ अभियान चला रहा, बस कागजातों की जांच कर जुर्माना वसूल करने में मशगूल है।