नोडल अधिकारी ने जनपद स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक कर कई मुद्दों पर ली जानकारी
जयंत यादव क्राइम रिपोर्टर गाजीपुर
जनपद के  नोडल अधिकारी /सचिव, लोक निर्माण विभाग उ0प्र0 शासन समीर वर्मा ने शुक्रवार को लोक निर्माण विभाग के निरीक्षण गृह मे कोविड-19 टीकाकरण, गो-आश्रय केन्द्र, एवं ठण्ड से बचाव हेतु अलाव एवं जनपद में बनाये गये रैन बसेरा एवं अन्य महत्तपूर्ण बिन्दूओ पर समीक्षा बैठक की। समीक्षा के दौरान उन्होने कोविड-19 टीकाकरण की जानकारी ली जिस पर बताया गया कि जनपद में 18 वर्ष से अधिक आयु के लाभार्थियों का लक्ष्य 2754132 है। जिसमें  प्रथम डोज से आच्छादित की सख्या 2664318 तथा द्वितीय डोज से आच्छादित लाभार्थियो की सख्या-1295583  एवं प्रिकासन डोज से आच्छादित-1197 लक्ष्य पूरा किया गया। टीकाकरण बढाये जाने हेतु  टीकाकरण टीमों की संख्या बढ़ाकर 415 कर दिया गया है। 15 से 18 वर्ष आयुवर्ग के किशोरों को लक्ष्य-253910 के सापेक्ष प्रथम डोज-81608 लगाया जा चुका है।  निगरानी समितियों एवं इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेन्टर(आई.सी.सी.सी.) के द्वारा 1238 ग्राम निगरानी समितिया एवं 25 मुहल्ला निगरानी समितियॉ सक्रिय कर लिया गया प्रतिदिन 03 शिफ्ट के माध्यम से कोविड टीकाकरण के लाभार्थियों एवं कोविड पॉजिटिव मरीजों से वार्ता करके उनको दवाओं की उपलब्धता (मेडिसिन किट) एवं पल्स आक्सीमीटर व थर्मामीटर की उपलब्धियों का हाल दूरभाष के माध्यम से लिया जाता है।  नोडल अधिकारी ने जनपद में अधिक से अधिक कोविड-19 जॉच तथा लक्ष्य के सापेक्ष शत-प्रतिशत टीकाकरण का निर्देश दिया । उन्होने 20 जनवरी तक प्रथम डोज का शत-प्रतिशत एंव द्वितीय डोज का 75 प्रतिशत टीकाकरण कराने का निर्देश दिया तथ पूर्ण हो चुके टीकाकरण सूची जिलाधिकारी के सम्मुख प्रस्तुत करने कर निर्देश दिया। अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 उमेश ने बताया कि ऑनलाईन डाटा फीड करने हेतु  जनपद में टेक्निकल टीम की आवश्यकता है जिसपर नोडल अधिकारी ने मिशन निदेशक को पत्र प्रेषित करने का निर्देश दिया। नोडल अधिकारी ने ठण्ड एवं शीतलहर को देखते हुए की गयी तैयारियो का जायजा लिया तथा   समीक्षा के दौरान बताया गया कि जनपद में 278 स्थानो पर अलाव की व्यवस्था की गयी है तथा जनपद मुख्याल पर 02 तथा तहसीलो मे 18 स्थानो पर रैन बसेरा बनाये गये है। अबतक निःशुल्क वितरित 12169 कम्बल सभी तहसीलो को मिलाकर निराश्रित, असहाय एवं कमजोर व्यक्त्यिों/परिवारों को प्रदान किया गया।  उन्होने बैठक में गो-आश्रय स्थल की जानकारी लेने पर  बताया गया कि जनपद में 24 अस्थाई एवं 02 वृहद गो-आश्रय स्थल संचालित है जिनमें कुल 2290 गोवंश संरक्षित है। सभी गो-आश्रय स्थलों पर शीतलहर से बचाव हेतु शेड के चारो तरफ मोटी पॉलीथिन शीट व अलाव की व्यवस्था के साथ ही उनके चारा एवं पीने के लिए शुद्ध पानी की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित रहे।  बैठक में जिलाधिकारी एम पी सिंह, पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह, मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्ता, अपर जिलाधिकारी वि0रा0 अरूण कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी भू0रा0 सुशील लाल श्रीवास्तव, एवं अन्य सम्बन्धित जनपदस्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।